21 Vi Sadi Ka Bharat Essays

इक्कीसवीं सदी की चुनौतियाँ पर निबंध | Essay on The challenges of the Twenty-First century in Hindi!

चुनौतियों को स्वीकार करना मानव का सहज स्वभाव है । मानव सभ्यता का इतिहास चुनौतियों से परिपूर्ण है । जब भी हमारे समक्ष कोई बड़ी बाधा आई हमने उसका डटकर मुकाबला किया ।

आदि मानव खूँखार जंगली जंतुओं के बीच रहकर भी उनसे भिन्नता कायम करने में तथा स्वतंत्र अस्तित्व स्थापित करने में सफल रहा । लंबे समय तक उसे पेड़ों और गुफाओं में सोना पड़ा परंतु उन्नति करते हुए उसने टूटी मड़ैया से लेकर आलीशान महल बना डाले ।

उसने अपने जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति में ही सारा समय नहीं लगाया अपितु नृत्य संगीत चित्रकारी आदि विभिन्न कलाओं को उन्नति के नए-नए आयामों की तरह अपनाया और मानव जीवन को नई सार्थकता प्रदान की ।

अनेक पडावों से गुजरते हुए हम अब इक्कीसवीं सदी में पहुँच चुके हैं । यदि हम इसके पीछे की दो सदियों को देखें तो ये वैज्ञानिक घटनाओं एवं आधुनिक विचारधारा से परिपूर्ण दिखाई देंगी । इन दो सदियों की मानव उपलब्धियाँ पिछली कई सदियों की तुलना में बहुत अहम् हैं क्योंकि हमने हर क्षेत्र में परंपराओं एवं रूढ़ियों को तोड़ने की सफल चेष्टा की है । पहले समृद्‌धि कुछ लोगों तक सीमित थी लेकिन अब यह व्यापक हो गई है ।

विश्व में दूरियाँ घट गई हैं और बाजारवाद हावी हो गया है । सुविधाएँ किसी की मिलकियत न रहकर जन-सामान्य के घरों तक दस्तक दे चुकी हैं । समानता और सबके लिए समान अवसर की भावना के जोर पकड़ने के कारण उपभोग की सामग्री जन-जन की पहुँच में है । कई प्रकार के वैज्ञानिक आविष्कारों का लाभ पूरे समाज को प्राप्त हो रहा है ।

पिछली दो सदियों की घटनाओं और परिस्थितियों ने वर्तमान सदी को अत्यधिक चुनौतिपूर्ण बना दिया है । वैज्ञानिक आविष्कारों के कारण आई सूचना एवं संचार क्रांति, बाजारवाद, ऊर्जा की बढ़ती माँग, जनाधिक्य, सबके लिए स्वास्थ्य जैसे कई क्षेत्र हैं जहाँ कुछ न कुछ गंभीर समस्याएँ मुँह बाए खड़ी हैं ।

खतरनाक हथियारों का फैलाव उन लोगों तक भी हो गया है जो लोग विकृत मानसिकता से ग्रस्त हैं । गरीबी, भुखमरी, बेकारी जैसी परंपरागत समस्याओं से हम अभी तक पीछा नहीं छुड़ा पाए हैं तो वहीं आतंकवाद, एड्‌स, सार्स आदि के रूप में विश्व नई तरह की समस्याओं से जूझ रहा है ।

गरीब, विकासशील तथा विकसित देशों की अपनी – अपनी समस्याएँ हैं । कई निर्धन तथा अर्द्धविकसित देश अपनी बदहाली को दूर करने की जद्दोजहद में ऋणों के भार से दबते जा रहे हैं । ऐसे कई देशों को आंतरिक विप्लव तथा बाह्य हमले की चिंता हर समय रहती है । इन स्थितियों से बचने के लिए वे हथियारों की होड़ किए बैठे हैं जो उनकी आर्थिक दशा को और भी बिगाड़ देता है ।

ऐसे देशों में बेकारी की जटिल समस्या के कारण बेराह युवाओं की संख्या बढ़ रही है । भटके हुए युवा हिंसा का सहारा लेकर दुनिया भर में तबाही मचा रहे हैं तो इसका कारण मुख्य रूप से बेकारी ही है । विकासशील देशों का जागरूक रहने वाला मध्य वर्ग आज उपभोक्तावाद की चपेट में आकर अपनी परिवर्तनकारी भूमिका से विमुख होता प्रतीत होता है ।

विकसित देशों की अपनी अलग तरह की समस्याएँ हैं । ये देश सामाजिक विघटन के दौर से गुजर रहे हैं क्योंकि समृद्‌धि के दौर में वहाँ के लोग स्वयं को समायोजित करने में विफल रहे हैं । आर्थिक नियोजन की तुलना में सामाजिक नियोजन एक कठिन कार्य है ।

यही कारण है कि समृद्‌ध देश तनाव, मानसिक भटकाव, हिंसा, नशाखोरी जैसे सामाजिक दूषणों से दो-चार हैं । विकसित देश अपने वर्चस्व को हर कीमत पर बनाए रखने के लिए प्रयत्नशील हैं अत: उन्हें शेष विश्व के लिए दोहरे मापदंडों को बनाए रखने जैसे हथकंडों का भी सहारा लेना पड़ता है ।

एक अच्छी विश्व व्यवस्था इक्कीसवीं सदी की सबसे बड़ी चुनौती है । संयुक्त राष्ट्र संघ की जिस प्रकार की बेकद्री इराक पर अमेरिकी हमले के रूप में हुई उसे देखकर तो यही लगता है कि यह संस्था कुछ शक्तिसंपन्न देशों के हाथ की कठपुतली बनकर रह गई है । स्वाधीन देशों का आत्मस्वाभिमान विखंडित होने की घटनाएँ जब तक होती रहेंगी, विश्व शांति के सभी प्रयास विफल सिद्‌ध होंगे । विश्व के सभी देशों को इस समस्या पर मिलकर विचार करना होगा ।

विकास की अंधी दौड़ में पृथ्वी का विछिन्न हुआ पर्यावरण संतुलन हमारी चिंता का एक और बड़ा कारण है । इसके लिए विश्व स्तर पर सभाएँ व गोष्ठियाँ हो रही हैं, चिंताएँ व्यक्त की जा रही हैं परंतु धरातल पर ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं ।

यह उपेक्षा भाव हमारी आगामी पीढ़ियों को एक नए तरहा से प्रभावित करेगा । वे ऐसी कृत्रिम वायु में साँस लेने के लिए विवश हो जाएँगे जो हर तरह से दूषित होगा । केवल कल्पना कर सकते हैं वह पृथ्वी पर प्रत्यक्ष दिखने लगेगा । पृथवि को यदि हम माता कहते हैं तो यह हमारा दायित्व है कि इसे हम हर प्रकार से समुन्नत बनाएँ ।

आधुनिक विश्व की चुनौतियाँ मानवीय हैं । इस नजरिए से देखें तो इन सभी चुनौतियों का हम मानवीय प्रयत्नों से सामना कर सकते हैं । मानव अभी तक तो उन सभी चुनौतियों को स्वीकार कर उनसे जूझने में सफल रहा है जो उसके अस्तित्व का चुनौती देते आए हैं । अत: आशा करनी चाहिए कि आगे भी वह सभी चुनौतियों को स्वीकार कर उनका कोई न कोई हल जरूर ढूँढ़ निकालेगा ।

निबंध नंबर : 01 

कल का भारत

या

21वीं सदी का भारत

बीसवीं शताब्दी का अंत होने को है और इक्कीसवीं शताब्दी के स्वागत की तैयारी की जा रही है। हर शताब्दी के साथ ही हुआ है। शताब्दियां ऐसे ही बीती हैं। हर शताब्दी का इतिहास रोमांच से भरा होता है। इतिहास इसका गवाह है।

मनुष्य को हमेशा आने वाले समय की चिंता रहती है। चिंतकों को आने वाले कल की चिंता सताए रहती है कि भावी समाज कैसा होगा?

आम आदमी अपने कल की चिंता करता है। भारत के आम आदमी का जीवन प्राय: कल की चिंता में ही गुजर जाता है। प्राय: वह आज को नहीं जी पाता है। उसका आज असुरक्षित है, उसका अतीत भी असुरक्षा की आशंका में बीता है और भविष्य भी सुरक्षा की चिंता में डूबे हुए बीत जाएगा। लेकिन उसके हाथ कुछ नहीं आएगा।

आज एशिया के अधिकांश देश गरीबी से जूझ रहे हैं। वे कल की संभावना को नहीं समझ सकते। उनके लिए कल की संकल्पना का कोई अर्थ नहीं है। आज की दुनिया एक ही समय में पंद्रहवीं-सोलहवीं शताब्दी में जा रही है। आदिवासी लोग भी आज जी रहे हैं।

जरा वचार कीजिए कि आने वाले कल से ऐसे समाज की आशा कैसे की जा सकती है जो अभी सदियों पीछे है और अपनी जिंदगी की गाड़ी को जैसे-तैसे घसीट रहा है। एक छवि ने आने वाले समाज की संकल्पना की है-

हम लूले, लंगड़े और अपाहित हैं,

हमारा अतित और वर्तमान हम से बेखबर है-

हमारा भविष्य हम जानते हैं,

वह कभी सामने भी नहीं आएगा,

हम हमेशा अतीत को ही दोहराते रहे हैं

जिंदगी दर जिंदगी दोहराते रहेंगे।

भविष्य है भी क्या? होगा भी क्या? न भरपेट रोटी खाने को मिल पाती हैख् न पहनने के लिए ढंग के कपड़े हैं और न रहने के लिए मकान है। फिर उनके लिए किसी शताब्दी के जाने-आने का कोई महत्व नहीं है। वे तो शताब्दी में ठूंठ की तरह जिंदा रहते हैं।

यदि अपने देश के प्रधानमंत्री देश को इक्कीसवीं शताब्दी में ले जाना चाहें तो आप सोचिए कि वे इस देश को इक्कीसवीं शताब्दी में कैसे ले जाएंगे? क्या मुफलिसी, भुखमरी, चिथड़े लिपटे लोगों और फुटपाथ पर रहने वाले लोगों को लेकर प्रवेश करेंगे। क्या वे आतंकावद की चपेट में आए पंजाब को लेकर प्रवेश करेंगे क्या वे अशिक्षितों की भीड़ को लेकर प्रवेश करेंगे? क्या वे सती प्रथा में आस्था रखने वालों को लेकर प्रवेश करेंगे? क्या है, जिसको लेकर वे इक्कीसवीं शताब्दी में प्रवेश करने का दावा कर रहे हैं?

आइए, आप भी जहां हैं, वहीं से सहयोग कीजिए। ध्यान रखिए, सब कुछ संभव हो सकता है, यदि दूर दृष्टि, पक्का इरादा और करने की शक्ति हो। कोई भी नहीं चाहता कि वह यथास्थिति पड़ा रहे, उसमें कोई परिवर्तन ही न हो। व्यक्ति ठूंठ नहीं है। वह चैतन्य है। उसमें उर्वरा शक्ति है वह कल्पना करता है। वह आने वाले कल की कल्पना कर सकता है।

वास्तव में सच्चाई यह है कि मनुष्य जो है, उससे हटकर सोचकर आनंदित होता है। वह उसका सुंदर व काल्पनिक भविश्य होता है, जिसके सहारे वह वर्तमान की कड़वाहट को कुछ समय के लिए भूल जाता है।

एक तरह से देखा जाए तो मनुष्य धीरे-धीरे नैतिकता के प्रति अनुत्तरदायी सिद्ध होता जा रहा है। उसका चारित्रिक पतन निरंतर होता जा रहा है। दूसरी ओर, भौतिक और वैज्ञानिक उन्नति की दिशा में मह आगे बढ़ रहा है। वह विश्वयुद्ध के भय की गिरफ्त में आ चुका है। इस प्रकार का विश्वयुद्ध वैज्ञानिक आइंसटीन के शब्दों में ‘इतना भयानक होगा किस उसके बाद मानव जाति अपने आपको पुन: पाषाण युग में पाएगी। अर्थात भयावह सर्वनाश होगा।’ क्या इक्कीसवीं शताब्दी में इस आशा अथवा भयाशंका का आगमन नहीं हो रहा है?

आज सभी देश आपस में उलझे हुए हैं। उनमें एक-दूसरे पर विश्वास नहीं है। आज शोषण-चक्र तेज है। और गुलामी का दौर बदस्तूर चल रहा है। संसार में आतंकवाद पांव जमाता जा रहा है। सरेआम हत्यांए हो रही हैं। विशाल खेल आयोजन भारी सुरक्षा प्रबंध के बाद ही हो पा रहे हैं और फिर भी खिलाडिय़ों की हत्यांए सरेआम हो रही हैं। विकसित व अद्धविकसित देशों में आतंकवाद पांव जमाने लगा है। इससे यह सोचा जा रहा है कि कहीं लोकतंत्र के स्थान पर आतंकतंत्र तो स्थापित नहीं हो जाएगा। इसके अनेक देशों के उदाहरण सामने आ चुके हैं, जहां लोकतंत्र को रौंदकर सैनिक शासन स्थापित हुआ है। वहां बराबर लोकतंत्र बहाली के लिए आंदोलन, प्रदर्शन, हिंसा का दौर चल रहा है। वर्मा, पाकिस्तान, बंगलादेश आदि में एक प्रकार की तानाशाही ही है। वहां फौजी शासन ही है। मजे की बात यह है कि उन देशों से जहां लोकतंत्र विदा हुआ है किसी भी लोकतंत्रिक देश ने संबंध विच्छेद नहीं किए हैं। इसके विपरीत अनेक लोकतांत्रिक देशों ने उनसे हाथ मिलाया है। इसका यह अर्थ नहीं है कि वे देश भी लोकतंत्रात्मक पद्धति को अंदर ही अंदर तिलांजलि देना चाहते हैं। यों अनेक देशों में जहां लोकतंत्र है एक ही दल का एकाधिकार बना हुआ है। वहां की जनता लोकतंत्र को किसी सीमा तक राजतंत्र ही मानकर चल रही है। इस दृष्टि से भावी समाज को बहुत खतरे हैं।

21वीं सदी में भी दुनिया के सामने जनसंख्या ओर अशिक्षितों की भीड़ लगी हुई है। गरीबी-रेखा के नीचे पहले से अधिक जनसंख्या विद्यमान है। पानी का संकट भी है और प्रदूषण के क्षेत्र का विस्तार हो रहा है। युद्ध-अभ्यास बराबर होते जा रहे हैं। पेट्रोल, डीजल, कोयले का भंडार खत्म होने के कागार पर हैं। जलवायु ओर मौसम में परिवर्तन हो रहा है। मानसून अपनी दिशा बदल रहा है। मानसून गड़बड़ा भी रहा है। असमय वर्षा हो रही है, बादल फट रहे हैं और प्रकृति भयंकर रूप धारण करके सामने आ रही है।

वर्तमान समाज की यह संकल्पना, दुखद और त्रासदीजनक है। व्यक्ति-व्यक्ति से तेजी से अलग हो रहा है और पदार्थ से संबंध जोड़ रहा है। लगता है, इक्कीसवीं सदी को समाज में व्यक्ति बहुत कुछ अपनी पहचान खो रहा है। निस्संदेह आने वाला कल उसका अपना नहीं होगा। उसे पहले की अपेक्षा औरजटिल जिंदगी जीनी पड़ रही है। समस्यांए सुरक्षा के समान तेजी से अपना आकार बढ़ा रही है। मानवाधिकार का हनन औरभावी समाज भय, आतंक, ईष्र्या, द्वेष, हिंसा आदि की गिरफ्त में हैं। वह कल की अपेक्षा अधिक असुरक्षित और कमजोर है। कोई ईश्वरीय या प्राकृतिक चमत्कार ही वर्तमान स्वार्थी व्यक्ति को लक्ष्यनिर्माता बना सकता है।

 

निबंध नंबर : 02

भविष्य का भारत

Bhavishya ka Bharat 

 

या 

इक्कीसवीं सदी का भारत

21 vi Sadi ka Bharat

 

 

आज भारत तो क्या सारा विश्व बड़ी तीव्र गति से दौड़ते हुए इक्कीसवीं सदी तक पहुंच जाना चाहता है। उन्नीसवीं सदी के अंतिम दशक के भ्ज्ञी अंतिम वर्षों में पहुंच विश्व की तरह भारत इक्कीसवीं सदी के द्वारों पर दस्तक देने लगा है। ऐसे में प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि कैसा होगा इक्कीसवीं सदी का भारत? आज की तरह का ही सब-कुछ रहते हुए भी भ्रष्ट और भूखा-नंगा, तरह-तरह की समस्याओं, प्रदूषणों से घिरा हुआ गंदगी का ढेर-या फिर भ्रष्टाचार और प्रदूषण, गंदगी और भुखमरी से रहित, सब प्रकार से सुखी एंव समृद्ध भारत! सच तो यह है कि आज के भारत की प्रगतिशीलता, आज के भारत के भ्रष्टाचार, महंगाई, बेरोजगारी, अराजकता और राजनेताओं की रहस्मय बाजीगीरी आदि को देखकर किसी भी प्रकार का ठीक निर्णय कर पाना संभव नहीं कि इक्कीसवीं सदी का भारत वास्तव में क्या और किस प्रकार होगा?

अच्छी या बुरी आज के भारत की जैसी भी स्थितियां हैं उन्हें देखकर इक्कीसवीं सदी के भारत के संबंध में स्वभावत: दोनों तरह के ही विचार आते हैं। एक विचार आशा और विश्वास का संचार करना चाहता है, ताू दूसरा घोर निाराश एंव अविश्वास का। आज भारत जिस प्रकार बेतरतीब-सा, वीरान-सा, छाया एंव हरियाली से रहित कंक्रीट का बदनुमा जंगल बनता जा रहा है, जहां मात्र स्वार्थों की दौड़ है। हर आदमी दूसरे की टांग खींच, उसे नीचे गिरा खुद आगे बढ़ जाना चाहता है। अपने घर की गंदगी समेटकर दूसरों के घर के आगे फेंक कूड़े का ढेर लगा देना चाहते हैं। तरह-तरह के वाहनों की भीड़ ओर कनफोड़ू हॉर्नों की आवाज सभी के कान तो क्या दिल-दिमाग तक फाड़ देना चाहती हैं। पर्यावरण को सुरक्षित रखने और वर्षा का कारण बनने वाले वन-वृक्ष काटकर वहां आबदी-पर-आबादी बसाई जा रही है। कुछ लोगों के पास तो आकूत-अथाह धन-संपत्ति भरी पड़ी है, जबकि कुछ लोगों को रूखी-सूखी रोटी तक भी मय्यसर नहीं हो पा रही है। सडक़ पर दुर्घटनाग्रस्त को अस्पताल तक पहुंचाने वाला कोई नहीं। अस्पताल में पीड़ा एंव घावों से कराहते या घायल पड़े रोगी का इलाज तो क्या करना हाल-चाल तक पूछने वाला कोई नहीं। जनता के रक्षक नेता और पुलिस वाले स्वंय ही घूसखोर, डाकू, लुटेरे और बलात्कारी बनकर जनता का तन, मन, धन सभी कुछ लूट रहे हैं। मानवता पर मशीनी पटियों के नीचे पिसकर दम तोड़ रही है। क्या शिक्षा और क्या अन्य क्षेत्र सभी जगह बुरी तरह धांधली एंव अराजकता का राज है। सच्चों, सज्जनों, सह्दयों का कोई पुछवैया तक नहीं है। प्रदूषण के कारण हवा में सांस ले पाना और पानी का घूंट भरना मौत को निमंत्रण देने जैसा है। इस प्रकार का नरकीय माहौल आज जो चारों तरफ छा रहा है, यदि इसी सब को लेकर भारत ने इक्कीसवीं सदी में प्रवेश किया, तो वहां हमारी वास्तविक स्थिति क्या एंव कैसी होगी, इस सबका अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है। प्रश्न उठता है, क्या ऐसी इक्कीसवीं सदी में जाना ओर रहना हमें रुचेगा? क्या ऐसे दमघोंटू वातावरण में हम या कोई भी अन्य रह सकेगा या रह पाना पसंद करेगा? हमारे विचार में तो कदापि नहीं।

अब तनिक इक्कीसवीं सदी के दूसरे पहलू पर भी आकर देखिए, जिसकी आज के माहौल में मात्र कल्पना ही की जा सकती है-इस दूर की आशा ओर संभावना के साथ कि बीसवीं सदी के इन बाकी बच रहे दो-चार वर्षों में शायद कोई सच्चा देश-हितैषी, जन-सेवक नेता उत्पन्न हो जाए। जो इस सारी गंदगी को साफ करके इक्कीसवीं सदी में भारतीय जन-मानस को एक साफ-सुथरे भारत की ओर ले जा पाने में समर्थ हो? वह भारत, जो हर प्रकार से साफ-सुथरा, हरा-भरा, सब प्रकार के प्रदूषण से मुक्त हो। वह भारत, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति एक-दूसरे के प्रति सहज सहानुभूति से भरा हो। एक के सुख-दुख को अपना समझने वाला हो? जिसमें कंक्रीट के जंगलों के आस-पास फलों-फूलों से लदे हरे-भरे वन-वृक्ष एंव बाग-बगीचे होंगे। बारहों महीने उन पर रंग-बिरंगे पक्षी चहचहाकर मन को मुज्ध कर रहे होंगे। जल के सभी स्त्रोत प्रदूषण से रहित शुद्ध और निर्बल होंगे। हर मनुष्य उनमुक्त एंव शुद्ध वायुमंडल में सांस ले सकेगा।

इक्कीसवीं सदी के ऐसे संभावित सुखद भारत में सभी समान रूप से मिलजुल कर रहते तो होंगे ही, प्रगति एंव विकास की राह पर भी चल सकेंगे। कोई किसी की टांग खींच, दूसरे को नीचे गिराकर आगे बढऩे का प्रयास करने वाला हनीं होगा। कहीं कोई भूखा, बेकार, भिखारी नजर नहीं आएगा। न ही किसी व्यक्ति को दुर्घटना का शिकार होकर बाकियों की लापरवाही के कारण सडक़ पर ही दम तोडऩा पड़ेगा। अस्पतालों में प्रत्येक मरीज के साथ सहज मानवीय एंव घर का-सा व्यवहार होगा। थाने अन्याय, रिश्वत और बलात्कारी के अड्डे न बनकर न्याय का पवित्र मंदिर होंगे। अदालतें भी मामले न लटकाकर तत्काल उचित न्याय देने वाली होंगी। लोग आपस में इस सीमा तक मिलजुल कर रहेंगे कि किसी को थाना-अदालत की कभी आवश्यकता तक ही न पड़ा करेगी। प्रत्येक व्य ित न्यायप्रिय एंव सत्यवादी होगा। बाजार में हर माल आवश्यक्तानुसार उचित एंव सस्ते दर पर उलब्ध हो सकेगा। दुकानदार, व्यापारी न तो कम तोलेंगे और न महंगा बेचेंगे ही। सारा जीवन-व्यापार बड़ा संतुलित होगा।

शिक्षालय व्यवसाय के केंद्र या गे्रजुएट पैदा करने वाली माश्ीन न रहकर सच्चे अर्थों में व्यक्ति को हर प्रकार से निर्दोष एंव योज्य बनाने का कार्य करेंगे। सारा समाज न केवल साक्षर बल्कि सुशिक्षित होगा। फलस्वरूप सभी को उचित मान-सम्मान प्राप्त हो सकेगा। स्त्रियों को समाज में विशेष आदर प्राप्त होगा। बच्चों के लालन-पालन एंव शिक्षण के कार्य पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। शिक्षा को जन-सेवा एंव व्यवसायोन्मुख बनाया जाएगा, ताकि शिक्षा पाने के बाद व्यक्ति को बेकार आवारा न घूमना पड़े। इस प्रकार इक्कीसवीं सदी का भारत सभी के लिए सुंदर, सुखद एंव लाभदायक होगा, इस बात को स्पष्ट संभावना व्यंजित की जाती है।

इस प्रकार इक्कीसवीं सदी में भारत कैसा होग, या फिर हो सकता है, दोनों के चित्र ऊपर प्रस्तुत कर दिए गए हैं। वर्तमान दशा को देखकर लगता नहीं कि इक्कीसवीं सदी का भारत कोई बड़ा ही मनोहारी है। यदि सदी के अंत तक वर्तमान बद दशाओं को सुधारा न जा सका, तो आने वाली सदी निश्च ही विनाश का संदेश लेकर आएगी। पर मनुष्य बड़ा आशावादी है। फिर परिस्थितियों का भी कुछ पता नहीं चला कि कब क्या हो जाए। दूसरे आज के जागरुक मानवतावादी मानव जिस प्रकार के प्रयास कर रहे हैं, उससे कुछ-कुछ विश्वास जगता है कि इक्कीसवीं शताब्दी सारी मानवता के लिए शुभ संदेश लेकर आएगी।

June 17, 2017evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), LanguagesNo CommentHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

0 Replies to “21 Vi Sadi Ka Bharat Essays”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *